Friday, February 23, 2024
HomeUncategorizedसूरत : सी के पीठावाला कॉलेज की स्थापना के 25 साल पूरे...

सूरत : सी के पीठावाला कॉलेज की स्थापना के 25 साल पूरे होने पर पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शामिल हुए

सूरत के डुमस रोड स्थित सीके पीठावाला इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना के 25 वर्ष पूरे हुए। महाविद्यालय प्रांगण में संस्था के संस्थापक एवं प्रेरणास्रोत स्व छोटूभाई के. पीठावाला की प्रतिमा का अनावरण पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया। पीठावाला कॉलेज में पढ़कर विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धियां हासिल करने वाले पूर्व छात्रों को पूर्व राष्ट्रपति ने सम्मानित किया। वर्ष 1998 में श्री. छोटूभाई ने डुमस रोड, मगदल्ला के पास पीठावाला कॉलेज परिसर की स्थापना की, सीके पीठावाला इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना के 25 साल पूरे होने पर विभिन्न कार्यक्रमों सहित एक भव्य रजत जयंती समारोह भी मनाया गया।

शिक्षा पूरे जीवन को उज्जवल बना सकती है

पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि अन्नदान से व्यक्ति की दो-चार दिन या कुछ दिनों की भूख मिट सकती है, लेकिन विद्यादान व्यक्ति के पूरे जीवन को आलोकित कर सकता है। सामाजिक प्रतीक की मूर्ति स्थापित करना एक सामान्य घटना लगती है। लेकिन उन्होंने यह भी भावना व्यक्त की कि उस महान व्यक्तित्व की छवि से उनमें आस्था का भाव उत्पन्न होता है और उन्हें अपने जीवन आदर्शों को अपनी आंखों के सामने रखकर जीवन रचने की निरंतर प्रेरणा मिलती है।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को नए सिरे से तैयार किया गया
 

सभी प्रकार की शिक्षा का मुख्य और अंतिम उद्देश्य मानव विकास है’, इस सार को नई शिक्षा नीति में शामिल किया गया है। यह कहते हुए कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को व्यक्ति में रही रचनात्मकता को बाहर लाने के उद्देश्य से नए सिरे से बनाया गया है।  10,000 से अधिक शिक्षाविदों के साथ गहन चर्चा के बाद शिक्षा नीति को अंतिम रूप दिया गया है। जो देश के उज्जवल भविष्य के लिए गेम चेंजर और विद्यार्थियों के उत्तम आचरण के लिए महत्वपूर्ण साबित होगा।

पीठावाला का पूरा जीवन गांधीजी के सिद्धांतों द्वारा निर्देशित था

पूर्व राष्ट्रपति कोविंद ने स्वर्गीय छोटूभाई को दूरदर्शी और जमीन से जुड़े हुए सामाजिक नेता कहा। उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि जब व्यक्ति को धन, मान, पद और प्रतिष्ठा मिलती है तो उसमें अहंकार भी अपने आप आ जाता है, लेकिन सीके पीठावाला को अहंकार छू नहीं पाए। जीवन भर महात्मा गांधी के सिद्धांतों पर चलने वाले पीठावाला का संपूर्ण जीवन सहज, सरल और सरल था। नवयुग कॉलेज 1965 में शुरू हुआ और ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों को उज्ज्वल भविष्य के लिए अच्छी शिक्षा प्रदान करने के लिए 1998 में तटीय क्षेत्रों में शिक्षा की लौ जलाई। यह कहते हुए कि यह आज बरगद का पेड़ बन गया है, पूर्व राष्ट्रपति ने अपेक्षा व्यक्त की कि यह संस्थान सर्वश्रेष्ठ नागरिक तैयार करेगा।

सी.के. पीठावाला के साथ स्मरण याद किए

तत्कालीन प्रधान मंत्री मोरारजी देसाई के निजि सचिव के रुप में अपने कर्तव्य के दौरान पीठावाला के साथ संस्मरण को रामनाथ कोविद ने याद किया। इस संबंध में उन्होंने कहा कि पीठावाला लगातार जमीन से जुड़े रहकर गांव के उत्थान के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने न केवल वर्तमान बल्कि भविष्य को भी ध्यान में रखते हुए कई शिक्षण संस्थानों का निर्माण किया। वे जन्मभूमि और कर्मभूमि के लिए कुछ ठोस करना चाहते थे, जिसका फल दशकों तक अगली पीढ़ी तक पहुंचे। इसीलिए उन्होंने सूरत शहर में नहीं, बल्कि मगदल्ला के आसपास के ग्रामीण इलाकों में कॉलेज की स्थापना की। उन्होंने छात्रों को शिक्षा जैसे क्षेत्रों में ही नहीं खेल, कला, संगीत जैसे क्षेत्रों में भी दक्ष बनने पर बल दिया।

छात्रों के लिए ‘विश्वविद्यालयों की जिम्मेदारी’ होनी चाहिए

उन्होंने कहा कि जिस तरह कॉर्पोरेट कंपनियां सीएसआर के हिस्से के रूप में अपनी आय का एक हिस्सा सामाजिक और कल्याणकारी उद्देश्यों के लिए उपयोग करती हैं, वैसे ही विश्वविद्यालयों और शिक्षा केंद्रों में शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्रों के लिए ‘विश्वविद्यालयों की जिम्मेदारी’ होनी चाहिए। दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों के बीच रहना और उनकी समस्याओं को समझना, उन्हें सरकार की कल्याणकारी योजनाओं से अवगत कराना आवश्यक है। जो सामाजिक उत्तरदायित्व के साथ-साथ विद्यार्थियों के जीवन में बदलाव लाने में महत्वपूर्ण साबित होगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments